Home Contact us Sitemap
Academics Accolades Life @ QVS Student Zone Parent Zone Social Initiatives List of Holidays Photo Gallery
   
  Whats New






29.09.15 : SPECIAL ASSEMBLY ON AESOP’S FABLES

“Try not to become a man of success, but rather a man of value.”

- Albert Einstein

The Cultural Hall of Queen’s Valley School roared with applause as the students performed their special assembly on the topic Aesop’s Fables by class IV-E and class IV-F. The special assembly started with some facts about the Greek storyteller Aesop and his fables. Then the students enacted some of the famous fables by Aesop to teach their friends some moral values. The stories taken up were ‘The Torn Painting’, ‘The Demon’s Share’ and ‘The Ant and the Grasshopper.’ The students learnt how presence of mind can help us to come out of any difficult situation and how preparing oneself in advance for the time of necessity can help us to have a comfortable future. Moral values can’t be taught but have to be caught. The motive of this assembly was to convey these morals which could be remembered easily by the students for a long time.

The queens were attired in beautiful dresses as per their characters and roles. They danced on songs like Azeem-o-shaanshehensha, Bhavore, Twist, etc. and impressed the audience with their performance. The students were praised for their effort. The assembly left the audience in awe as how people from our every day lives like a shepherd, a farmer and the tiny ants can teach very important lessons for our lives.






22.09.15 : Special Assembly of III C and D

At Queen’s Valley, we believe that the school assembly is one of the most essential facets of a school's curriculum. It not only nurtures interpersonal relations but also leads to overall development of the students. It is a good way of inculcating the qualities like devotion, dedication, team work in them. Moreover, it makes children confident and helps them to conquer their stage fear. A Special Class Assembly of class III-C and III- D was organised on Tuesday, 22 September 2015 on the theme- ‘SinghasanBattissi’.

‘Singhasan Battissi’, the tale of the lost throne of Vikramaditya which King Bhoja, the Paramara king of Dhar, found after many centuries. Whenever King Bhojatries to ascend the throne of Vikramaditya, he is challenged by the thirty two nymphs who adorn that throne in form of statues. He has to prove himself equally capable and virtuous as King Vikramaditya. Each nymph narrates a story and King Bhoja judges himself after the story. This leads to 32 attempts (and 32 tales) of Bhoja to ascend the throne and in each case Bhoja acknowledges his inferiority. Finally, the fairies let him ascend the throne when they are pleased with his humility.

The assembly was concluded with a valuable lesson that we should be benevolent and should care for others at the same time. We should be proud that we belong to a place, where our stories, traditions and culture teach us such good values and morals.

The Queens looked beautiful in their eye catching costumes. They gave a mesmerizing performance. The assembly proved a good way to showcase their talent. Their performance was felicitated through a big round of applause by the audience.






२१.०९.२०१५ : "हमसे है संसार" (पात्र परिचय प्रतियोगिता)

"यूनान, मिस्त्र, रोम सब मिट गए जहाँ से,
कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी"

"भारत" संसार का सबसे प्राचीन देश है| इसे महापुरुषों की पावन भूमि भी कहा जाता है| अपनी योग्यता एंव बुद्धि के बल पर अनेक महापुरुषों ने पूरे विश्व में भारत की अमिट छाप छोडी है| महात्मा गांधी, भगत सिंह, महात्मा गौतम बुद्ध आदि ऐसे असंख्य नाम हैं जिन्होंने भारत की गौरव पताका को विश्व में फहराया है|

भारत की सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक तथा आध्यात्मिक भूमि से जुडे महापुरुषों तथा वीर, वीरांगनाओं के प्रति आदर भाव जगाने तथा इन सभी से प्रेरणा ग्रहण भारत की प्रगति में अपना योगदान देने हेतु "क्वींस वैली विद्यालय के प्रांगण में "हिंदी दिवस" के उपलक्ष्य में "हमसे है संसार" पात्र परिचय प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें कक्षा तीसरी की छात्राओं ने भाग लिया| छात्राओं द्वारा उचित हाव भाव के साथ विभिन्न पात्रों का परिचय दिया गया| छात्राओं के उत्साह एवं उमंग ने प्रतियोगिता को सफल बनाया|

छात्रा का नाम कक्षा स्थान
मनचित कौर  तीसरी "फ"    प्रथम स्थान
अयाना सिंह   तीसरी "ई" प्रथम स्थान
ऐना वर्मा    तीसरी "ई" द्वितीय स्थान
रिशिमा खरे     तीसरी "ई" द्वितीय स्थान
हरगुन कौर ढ़िंगरा तीसरी "ई" द्वितीय स्थान
राधिका लोहिया  तीसरी "ब"  तृतीय स्थान
सृष्टि जी कौन्डल  तीसरी "ड"   तृतीय स्थान
हर्षिता यादव   तीसरी "फ"    तृतीय स्थान












20.09.15 : हिन्दी दिवस (20.9.2015 - 25.9.2015)

हिन्दी दिवस के सुअवसर पर क्वींस वैली के प्रांगण में कक्षा प्रीस्कूल और प्री-प्राईमरी की छात्राओं के लिए हिन्दी सुलेख,कहानी सुनाओ प्रतियोगिता और दृश्य सामाग्री द्वारा अभिव्यक्ति प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया | हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में आयो जित इन प्रतियोगिताओं के माध्यम से छात्राओं के सर्वांगीण विकास की अवधारणा पर विशेष बल दिया जाता है|प्रत्येक सदन की छात्राओं ने अपनी बुद्धिमत्ता व कुशाग्रता का परिचय देते हुए प्रतियोगिता को सफलता के चर्मोत्कर्ष तक पहुँचाया|

हर प्रतियोगिता में इन नन्हीबालिकाओं ने उत्साह के साथ भाग लिया और अपनी योग्यता का प्रदर्शन दिया | सभी छात्राओँ का योगदान सराहनीय है| सभी प्रतियागिताओं के नतीजे इस प्रकार है:

दृश्य सामाग्री द्वारा अभिव्यक्ति:
नाम कक्षा स्थान
साची कालरा स्नोड्राप I
इशिका रैपन्जल II
ऋचा पांडे एंजलिना III
ऋतोजा एंजलिना III

प्रशंसनीय कार्य निष्पादन
नाम कक्षा
कामाक्षी एंजलिना
लारन्या स्नोड्राप
सान्वी एरियल
परिधि स्नोवाइट

हिन्दी सुलेख
नाम कक्षा स्थान
स्पर्श मर्मेडिया I
शिविका सिन्ड्रैला II
आशी यादव गोल्डीलाक्स II
अमोली खन्ना सिन्ड्रैला III

प्रशंसनीय कार्य निष्पादन
नाम कक्षा
श्रेया ऐलिना
चार्वी सतीजा मर्मेडिया
आयुषी बिष्ट सिन्ड्रैला

कहानी सुनाओ प्रतियोगिता
नाम कक्षा स्थान
शेजाना वेद गोल्डीलाक्स I
केश्रीन दुआ जैस्मिन I
एम्या आर्या मर्मेडिया I
सनाह सोलंकी जैस्मिन II
ऐशानी मल्होत्रा गोल्डीलाक्स II
इरा कुमार मर्मेडिया III
हना यादव गोल्डीलाक्स III

प्रशंसनीय कार्य निष्पादन
नाम कक्षा
शाम्भवी बिष्ट सिन्ड्रैला
मिशिका ऐलिना
अराग्या ऐलिना
देबांग्शी दत्ता जैस्मिन
प्रतिशा श्रीवास्तव ऐलिस






18.09.15 : CLASS ASSEMBLIES (XII): 15th - 18th September 2015 Theatre Week- The Invisible Man Revealed

The third week of September 2015 witnessed a remarkably competent engagement of class XII in presentational theatre as part of the theatre week- ‘The Invisible Man Revealed’. It came as an opportunity to showcase innovative adaptations and styles to dramatise The Invisible Man, a novel by H.G.Wells, through a battle of sensibilities. It became an inordinately innovative attempt to provide the students with an exposure to the engaging and experiential approach to learning and perception building. It was meant as an exercise to evidently effect the strengthening of sensori-emotional values through an exposure to the subtleties of art, beauty and taste. The event was conceptualised in order to make the learning of the intricacies related to a long reading text more accessible to the students.

The students enacted the awe- inspiring portrayal of a man who isolates himself from his fellows to pursue an ambitious project and in the processgrows increasingly megalomaniacaland loses his humanity, unleashing forces he can neither truly understand nor control. The performances were a blend of theatrics and stagecraft replete with metafictional devices like narrative footnotes and interaction with audience through the collapsing of the fourth wall.

The performances were concretised through the use of impressive stagecraft including constructing and rigging scenery, hanging and focusing of lighting, design and procurement of costumes, makeup, procurement of props, stage management, and recording and mixing of sound. The use of exaggeration, farce and histrionics made it a constructive learning experience. The performances were interspersed with a discussion of the themes which emerge in the novel through the presentation of various scenes. The enthusiastic dramatization and impeccable dialogue delivery was appreciated by all and left the audience enthralled.





१७.०९.१५ : कहो कहानी अपनी जुबानी

हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में "क्वींस वैली स्कूल" के प्रागंण में हमारी नन्ही छात्राओं के लिए " कहो कहानी अपनी ज़ुबानी " प्रतियोगिता का आयोजन किया गया|

हमारी बाल प्रतियोगियों ने पूरे उत्साह के साथ भाग लिया| पहली व दूसरी कक्षाओं की छात्राओं की मनमोहक कहानियों ने सभी का मन आकर्षित कर लिया और श्रोताओं को उनके बचपन की सैर कराने का सफल प्रयास किया | पंचतंत्र की कहानियों से आरंभ हुई कहानियों में रोचकता ,विविधता सरसता और मनोरंजन की मात्रा प्रचुर रही| छात्राओं द्वारा सुनाई गई कहानी एंव भाव विभोर कर देने वाली भंगिमाओं ने श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर दिया तथा सारा सभागार करतालों से गूँज उठा | इसी उत्साह व जोश के साथ कहानी कथन प्रतियोगिता" का अंतिम चरण बाल मन की परतों में व्याप्त निःस्वार्थ प्रेम व चंचल मन को उजागर करने के साथ समाप्त हुआ|

कहो कहानी आपनी ज़ुबानी के विजेता रहे :
कक्षा पहली
नाम कक्षा स्थान
अतुलिका महालिक पहली सी I
हरमायरा कौर पहली सी II
मिष्टी नायक पहली बी III
अनाया अग्रवाल पहली सी III
रिदम लूथरा पहली डी III

कक्षा दूसरी
नाम कक्षा स्थान
दिया कपूर दूसरी ई I
स्वीकृति दूसरी जी II
हेज़ल दूसरी डी III
स्नेहल समल दूसरी ए III
चेतना पवार दूसरी सी III






17.09.15 : QVS moves up to the Central Level

At Q.V.S we have always believed in learning by doing and preparing a model is a perfect example of hands on, innovative and creative learning. Our queens participated in Zonal level Science, Mathematics & Environment Exhibition 2015-16 (SLSMEE) ,held in SKV Chhawla on 16th and 17th September 2015.

The main theme for this year was “Science and Mathematics for inclusive Development". The following models were displayed.

Exhibit: Life Saver on Road
(Sub Theme: Disaster Management)
Meghna Yadav X-B
Charvi X-B

Exhibit: Golden ratio in Life
(Sub Theme: Mathematics for Quality Life)
Ranjini De Mazumdar X-B
Ishita Rana X-B

Both the models qualified for the central level. The exhibit “Golden ratio in life” displayed the golden ratio in human anatomy, blood pressure, architecture and nature. The Golden ratio is a special number found by dividing a line into two parts so that the longer part divided by the smaller part is also equal to the whole length divided by the longer part. It is often symbolized using phi, after the 21st letter of the Greek alphabet. It further displayed the ways to incorporate the golden ratio to improve the quality of life.

The exhibit “Life saver on Road” displayed sensory detection of disaster on road and ways to provide smooth movement of ambulance.

The judges showed keen interest in the exhibits and appreciated them for their uniqueness and use for the inclusive development. The students were awarded certificates and trophies for their outstanding performance in the exhibition.





१६.९.१५: हँसी की ठिठोली

पसंद आए, न आए, ठहाके जरुर लगाए क्योंकि हँसी, सेहतमंद बनाए...

" सुबह - सुबह पार्को में जोर-जोर से समूह बनाकर हँसते लोग, टेलीविजन पर राजू श्रीवास्तव को देखकर अस्पतालों में बेड पर लेटे और बैठकर हँसते लोग , ऑफिस में चाय की चुस्कियां लेते और भारत को क्रिकेट में जीतते देखकर हँसते लोग, चाय के ढाबे पर काम करते-करते हँसी-ठिठोली करते बच्चे और ओल्ड एज होम्स में एक-दूसरे की दुर्दशा पर चुहलबाजी कर हँसते अनाथ निशक्तजन !"

यह है कुदरत की सबसे बड़ी नेमत हँसी और उसका ग्लोबल चेहरा ।

कहते हैं ...हँसी न हो तो जीवन शमशान की मिट्टी जैसा सख्त हो जाए। हँसी जन्नत को धरती पर ले आती है। भूखे खाली पेट इंसान को इसे खाने के लिए रूपया नहीं चुकाना पड़ता। इस की कल्पवक्ष छाँव अथाह है।

आज हँसाकर रोगी का इलाज किया जाता है। हँसी-खुशी दोस्त मिलते हैं। जिन्दगी के पलों को यादगार बनाते है। तेजी से दौड़ती जिन्दगी पूरा स्वाद देने लगती है। सूरज की पहली किरण, धरती के असंख्य फूलोँ को हँसाती है। हँसी की आजाद आवाज प्रकृति के मन्दिर में घंटियों की मीठी राग छेड़ जाती है जीवन में सब कुछ हाथ से रेत की तरह फिसल जाता है.... बस हँसी ही हाथ थामे हँसती रहती है।

इन सभी से प्रेरणा ग्रहण भारत की प्रगति में अपना योगदान देने हेतु पिछले बुधवार १६.९.१५ को "क्वींस वैली विद्यालय” के प्रांगण में "हिंदी दिवस" के उपलक्ष्य में"हँसी की ठिठोली"पात्र परिचय प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें कक्षा पाँचवी की छात्राओं ने भाग लिया| छात्राओं द्वारा उचित हाव भाव के साथ विभिन्न पात्रों का परिचय दिया गया| छात्राओं के उत्साह एवं उमंग ने प्रतियोगिता को सफल बनाया|

प्रतियोगि का नाम कक्षा स्थान
अनिमा पाँचवी  ब प्रथम स्थान
अनन्या गुप्ता पाँचवी फ द्वितीय स्थान
शुभि श्रीवास्तव पाँचवी  अ तृतीय स्थान
देविका बिष्ट पाँचवी  अ तृतीय स्थान







14.09.15 : सौराष्ट्र-महिमा (गीत/कविता) प्रतियोगिता

अमरपुरी से भी बढकर के जिसका गौरव गान है,
तीन लोक से न्यारा अपना प्यारा हिन्दुस्तान है|
गंगा, यमुना, सरस्वती से सिंचित जो गत क्लेश है,
सुजल, सुफला, शस्य-श्यामला जिसकी धरा विशेष है|
ज्ञान-रश्मि जिसने बिखेरकर किया विश्व कल्याण है,
सतत-सत्य–रत, धर्म-प्राण वह अपना भारत देश है|

भारत एक प्राचीनतम देश है| यह विश्व सभ्यता का जनक है | विश्व की प्राचीनतम भाषा संस्कृत भी भारत की ही देन है| प्राचीनतम वेद और पुराणों की रचना भी इसी देश में हुई है|

”अहिंसा परमोधर्मः” भारत ही संपूर्ण विश्व को सत्य औेर अहिंसा का पाठ सिखाता है| अपने ऐसे महान देश के प्रति प्रेम की भावना को प्रत्येक व्यक्ति अपने तरीके से प्रकट करता है, तो कोई नई खोजें करता है, तो कोई देशवासियों में देशप्रेम की भावना को जगाने वाले गीतों और कविताओं की रचना कर राष्ट्रीय एकता का सूत्रपात करते हैं|

इसी राष्ट्रीय एकता में अपना योगदान देने के लिए और भावी पीढी में प्रेम की भावना जगाने के लिए " क्वींस वैली विद्यालय " के प्रागंण में हिन्दी-दिवस के उपलक्ष्य में सौराष्ट्र-महिमा (गीत/कविता) प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें कक्षा चौथी की छात्राओं ने बढ-चढकर भाग लिया और पूरे जोश एवं प्रेम की भावना के साथ सौराष्ट्र गीत और कविता का गायन किया|

प्रतियोगिता के परिणाम इस प्रकार है
प्रथम स्थान पअन्वेषा यादव पकक्षा-चौथी  फ 
द्वितीय स्थान दीजा जोशी कक्षा-चौथी   ब
तृतीय स्थान दीया जोशी   जिया लोचव कक्षा-चौथी  ब कक्षा-चौथी  फ







०९.०९.१५: कक्षा सातवीं मुहावरों की लुक्का छिपी

क्वींस वैली विद्यालय द्वारका के प्रांगण में दिनांक 1 से 15 सितंबर 2015 तक हिंदी दिवस के उपलक्ष में हिंदी पखवाडा मनाया गया| इस अवसर पर छात्राओं को हिन्दी की अनेक विधाओं से परिचित करवाने के लिए तथा हिंदी भाषा के प्रति रुचि उत्पन्न करने के लिए विभिन्न हिन्दी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया|

जिस प्रकार हम अपने आप को सुंदर व आकर्षक बनाने के लिए विभिन्न साधनों का प्रयोग करते हैं वैसे ही हम भाषा को सुंदर और आकर्षक बनाने के लिए व्याकरण के कुछ साधनों का प्रयोग करते हैं जिनमें से एक है - मुहावरे | मुहावरा एक वाक्यांश है जो अपना शाब्दिक अर्थ न देकर वास्तविक अर्थ देता है |

हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में क्वींस वैली में कक्षा - सातवीं के लिए ‘मुहावरों की लुक्का छिपी’ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया | छात्राओं के समक्ष मुहावरों से संबंधित विभिन्न प्रश्न रख दिए गए थे | छात्राओं के सही उत्तर, शुद्धोच्चारण एवं आत्मविश्वास के आधार पर निर्णायकगण द्वारा परिणाम घोषित किया गया |

छात्राओं ने अत्यंत रूचि एवं जिज्ञासा के साथ इस प्रतियोगिता में भाग लिया | इस प्रतियोगिता से श्रोताओं ने भी ज्ञान अर्जित किया |

छात्राओं के नाम कक्षा स्थान
जिया यादव
नित्या सिंह
साक्षी प्रिया
कक्षा
सातवीं – ‘अ’
स्थान
प्रथम
वैश्वी राज
रित्विका नंदी
ऐश्वर्या शर्मा
सातवीं - ‘ई’ द्वितीय
स्नेहा भट्ट
महिमा चुंडावत
संजना
सातवीं – ‘ड’ तृतीय
दृष्टि राँय
धीमहि दोषी
अंजनि खंडेलवाल
सातवीं – ‘ब’





09.09.15 : INTER-HOUSE CRICKET COMPETITION

The importance of sports in the life of a student is invaluable. They instill lessons that are essential in the life of a student athlete and play a pivotal role in their all round development, as they learn values like discipline, responsibility, self confidence, sacrifice, and accountability.

In India, cricket isn't just a game. It is a religion where cricketers are Gods and every victory is a festival. It is rightly considered as a ‘wonderfully civilized act of warfare’ wherein the passion, the thrill, the craze and the excitement that the players as well as the spectators experience are unmatchable to any other sporting event. In a land of many religions and cultures, if there’s been anything that rises above differences, it’scricket.

On the morning of 9th September, 2015, the students of Queen's Valley School proved that cricket is not just a gentlemen’s game with their exemplary performance during an Inter-House Cricket Match for classes VI to VIII and IX to XII. The participants of all the four teams displayed excellent team spirit and leadership, egged on by the cheering spectators and friends sitting around the boundary. This event gave the players a chance to celebrate wins and commiserate losses, all while enjoying the camaraderie of their teammates.

The winners:
Classes VI-VIII
Final Match: Courage House v/s Integrity House
Winner: Courage House
Name Class
AADITI CHAND
POORVA
VAIBHAVI  GODIYAL
KANISHKA SINGH
PRIYANKA SHARMA
SANDHYA
TANNU  GODARA
PRIYANSHI SINGH
PRATISHTHA VERMA
LAKSHITA SOLANKI
SOMYA CHOUDHARY
VI A
VI A
VI A
VI B
VII A
VII B
VII C
VII D
VII E
VIII A
VIII A

Classes VI-VIII
Final Match: Courage House v/s Integrity House
Winner: Integrity House

Name Class
KUNIKA GUPTA
LEEHSA
NANCY
SIMRAN
SONAL CHAUHAN
DIVYA SINGH
KAVYA SARIN
RIA CHOUDHARI
SIMRAN GUPTA
TANVI DHILLON
SIMRAN RANDIVE
TARANPREET KAUR
IX A
IX A
IX A
IX A
IX A
IX B
IX B
IX B
IX C
IX C
IX D
IX D






08.09.15 : कक्षा दसवीं छोटी-बड़ी नोंक‍‌‍-झोंक

“बुराइयों से असहयोग करना मानव का प्रथम कर्तव्य है|”

मनुष्य जीवन बहुत ही सुंदर है तथा मानव एक चिंतनशील एवं बिद्धिशील प्राणी है और समय के साथ बदल लेना उसे बखूबी आता है| हमारी सोच हमारे व्यक्तित्व का आइना होती है | समय के साथ हमें अपनी सोच , आचार- व्यवहार और क्रिया -कलापों को बदल लेने से ही देश और समाज की उन्नति निर्भर करती है |

आज समाज में अनेकानेक कानून विरोधी जघन्य अपराध खुलेआम हो रहे हैं,जिन्हे रोकने के लिए आम व्यक्ति की पहल की आवश्यकता है| इन्ही अपराधों के प्रति समाज को जागरूक एव सजग बनाने के लिए कक्षा दसवीं की छात्राओं ने समाज में फैली विसंगतियों को नाटकीय रूप दिया है है|

इसी विचार को केन्द्र में रखते हुए क्वींस वैली स्कूल की कक्षा दसवीं की छात्राओं ने"छोटी-बड़ी नोंक‍‌‍झोंक" विषय पर प्रतियोगिता का आयोजन किया| जोश एवं उत्साह से उन्होने देश में फैली कुरीतियों और भ्रष्टाचार जैसे अनेक विषयों को उठाते हुए इस प्रतियोगिता मे अपने विचार प्रकट किए | प्रतियोगिता के परिणाम इस प्रकार हैः

नाम कक्षा स्थान
मानसी मान
मानसी यादव
सोनिया चौधरी
दीक्षा अहलावत
अल्का          
दसवीं - ब प्रथम
नीति गोदारा
निहारिका बाली
श्वेता यादव
स्मिरन यादव
शिवानी दलाल
रेणुका  देवी      
दसवीं- ड
         
द्वितीय
तनु झांगु
चंचल राना
तान्या ग्रेवाल
स्मिरन राय
सुमन चोपड़ा
आयुषी सिंघल      
दसवीं - स तृतीय






08.09.15 : CLASS VII-B SPECIAL ASSEMBLY ON WORLD LITERACY DAY

To sensitize and mobilize international public opinion and to elicit their interest and active support for literacy activities, September 8 was proclaimed World Literacy Day by UNESCO on November 17, 1965. It was first celebrated in 1966. Its aim is to highlight the importance of literacy to individuals, communities and societies.

Keeping this in mind, the students of class VII-B organized a special assembly on 8th September 2015 on the occasion of World Literacy Day.

The assembly began with the school prayer conducted melodiously by the queens. After the prayer, the topic of the special assembly was introduced . Our queens showcased the importance of Literacy through the medium of song, dance and theatre. The assembly started with a dance on the song ‘School Chale Hum’ followed by a skit through which the students showed that even the under-privileged children nowadays have the opportunity to go to school due to various schemes launched by the Indian Government namely Laadli Scheme, Mid-day meal etc. The assembly concluded with a dance on the song ‘Bum Bum Bole’.

The involvement of the students in their different roles encapsulated the learning objective of the assembly.

The assembly fulfilled its purpose to mesmerize the audience and everybody appreciated the efforts put by the students of class VII B by giving a huge round of applause.





०७.०९.१५ : कक्षा नवीं हिंदी दिवस

अभिव्यक्ति अर्थात विचार प्रवाह

मानव विचार शील प्राणी है, अतः समय - समय पर होने वाले सामाजिक परिवर्तनों एवं उनके कारणों के बारे में विचार करना उसकी प्रवृति है | हमारे बड़े बुजुर्ग हमारी धरोहरहैं | ये हमारी बुनियाद हैं, तथा इनके मान-सम्मान का ध्यान रखना हमारा कर्तव्य है| आज नारी की छवि जागरूक एवं शिक्षित नारी के रूप में नजर आती है किंतु इस रूप की वास्तविकता क्या है ?

इसी प्रकार के कुछ विचारणीय बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुए “क्वीन्स वैली स्कूल” कक्षा नवीं की छात्राओं के मध्य "अभिव्यक्ति" प्रतियोगिता का आयोजन किया गया | इस अभिव्यक्ति प्रतियोगिता हेतु निम्नलिखित उप विषय छात्राओं को दिए गए थे:

१ एक नहीं दो-दो मात्राएँ, नर से भारी नारी
२ हमारे बुजुर्गः विकास की होड़ में उपेक्षा का शिकार


दोनों ही विषय आज की ज्वलंत समस्याए हैं | हमें इन पर विचार करना होगा | इन समस्याओं के कारण और निवारण क्या हैं ? ये प्रश्न छात्राओं के समक्ष रखे गए | छात्राओं ने इस में बढ-चढ कर भाग लिया |

प्रतियोगिता के परिणाम इस प्रकार हैं:

प्रतिभागी का नाम कक्षा एवं वर्ग स्थान
अनन्या गौड़ प्रथम
श्रुति राणा
श्रुति चौधरी
सलोनी चहल
नवीं अ
नवीं अ
नवीं अ
द्वितीय
द्वितीय
द्वितीय
तन्वी ढिल्लों नवीं स तृतीय






०४.०९.१५ : जन्माष्टमी - विशेष प्रार्थना सभा कक्षा - ‘छठी – ई’

श्रीकृष्ण के कदम आपके घर आएँ,
आप खुशियों के दीप जलाएँ |
परेशानी आप से आँखें चुराए,
कृष्ण जन्माष्टमी की आपको शुभकामनाएँ ||

श्रीकृष्ण हिन्दू धर्म में मधुर एवं प्रेम भाव के देवता के रूप में पूजे जाते हैं | श्रावण मास की अष्टमी को जन्माष्टमी के रूप में इनका जन्म हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है |

जन्माष्टमी के उपलक्ष्य पर कक्षा छठी की छात्राओं द्वारा विशेष नाट्य मंचन किया गया |

जैसा कि हम सब जानते हैं कि श्रीकृष्ण देवकी तथा वासुदेव की आठवीं संतान थी | देवकी और वासुदेव के विवाह के समय हुई आकाशवाणी के अनुसार श्रीकृष्ण ही कंस का काल था | परंतु कई प्रयासों के बाद भी कंस श्रीकृष्ण को मार न सका | अंत में श्रीकृष्ण कंस का वध करता है तथा अधर्म पर धर्म की जीत हो जाती है |

विभिन्न गीतों, नृत्यों, वाद्यों आदि की ध्वनियों से समस्त वातावरण ही हर्षोल्लास से ओतप्रोत हो गया था | छात्राओं ने अत्यंत रुचि एवं आनंद के साथ प्रस्तुतिकरण किया | छात्राओं द्वारा श्रीकृष्ण की जन्मकथा, बाल - लीला, विभिन्न राक्षसों का वध, कंस का संहार, उग्रसेन को पुनः राजगद्दी पर आसीन करना तथा देवकी और वासुदेव को बंधीगृह से मुक्त करवाना आदि का मार्मिक वर्णन दर्शाया गया | | छात्राओं ने प्रस्तुत नवीन विषयवस्तु का पूर्ण लाभ उठाकर दर्शकों का ज्ञानार्जन भी किया | अंत में पुष्पों की वर्षा हुई तथा प्रसाद भी बाँटा





04.09.15 : कक्षा आठवीं हिंदी दिवस भाषा-समन्वय प्रतियोगिता

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल|
बिनु निज भाषा ज्ञान के, मिटत न हिय को शूल||
भारतेन्दु हरिशचन्द्र

हिंदी सम्प्रेषणा युक्त, जन तन्द्रा अन्तक व भावपूर्ण मातृभाषा है| हिन्दी मात्र एक भाषा नहीं अपितु हमारी मातृभाषा है| मातृभाषा के इस प्रसार एवं प्रचार हेतु क्वींस वैली विद्यालय द्वारका के प्रांगण में दिनांक 1 से 15 सितंबर 2015 तक हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में हिंदी पखवाडा मनाया गया| इस अवसर पर छात्राओं को हिन्दी की अनेक विधाओं से परिचित करवाने के लिए तथा हिंदी भाषा के प्रति रुचि उत्पन्न करने के लिए विभिन्न हिन्दी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया| इसी क्रम में कक्षा-आठवीं की छात्राओं के लिए भाषा-समन्वय प्रतियोगिता का आयोजन किया गया| माध्यमिक स्तर पर छात्राओं को व्याकरण के अंगों से अवगत कराने के लिए यह प्रतियोगिता आयोजित की गई| व्याकरण वह शास्त्र है, जिसके द्वारा किसी भाषा के शब्दों व वाक्यों के शुद्ध स्वरूपों एवं शुद्ध प्रयोगों का विशद ज्ञान करवाया जाता है| कोई भी मनुष्य शुद्ध भाषा का पूर्ण ज्ञान व्याकरण के बिना प्राप्त नहीं कर सकता|

भाषा-समन्वय प्रतियोगिता में कक्षा-आठवीं की चयनित छात्राओं को चार समूहों में विभाजित कर व्याकरण संबंधी प्रश्नों को पूछा गया|अंत में निर्णायकगण के द्वारा प्रतियोगिता के परिणाम को घोषित किया गया तथा प्रतियोगिता में विजयी छात्राओं को पुरस्कार व प्रशस्ति पत्र देकर उनका उत्साहवर्धन किया गया|

भाषा-समन्वय प्रतियोगिता के परिणाम इस प्रकार है
छात्राओं के नाम कक्षा स्थान
आस्था कुहिकर
शुभांगी मिश्रा
हिमांशी गोदारा
आठवीं स प्रथम
आरुषी अरोडा
गरिमा
कीर्ति 
आठवीं ब द्वितीय









03.09.2015 : CLASS I and II - Cultural Gully-Folk Dance and Fancy Dress

“People without the knowledge of their past history, origin and culture are like trees without roots.”

India is a diverse country including different states, religions, culture, languages, clothing and food. Indian culture is a colourful combination of each colour with its importance. It is imperative to respect and greet the different cultures. The best way to become educated about Indian culture and different life styles is to see and experience it up and close. Keeping this idea in mind, an activity ‘Cultural Gully’ was held in QVS on 3rd and 4th September, 2015 for the princesses of classes I and II. The aim of the activity was to unleash the creativity and ignite the interest of the queens in their country and teach them about their own cultural heritage. Children showcased the beauty and diversity of different states by exhibiting a section of food and handicraft, costumes and props of different states under one roof. Each stall represented the uniqueness of that state. Children danced to the music and spoke the languages of different states.QVS became a cultural hub of states like Punjab, Haryana, Madhya Pradesh, Kerala etc. The activity created an amiable ambience and the visitors to the stalls appreciated the hardwork of the students. It was indeed a mesmerising event which would be etched in our memories.

The best performers were:

Folk Dance – Class I
NAME SECTION POSITION
SPARSH VAISHNAV MARIGOLD I
SHREYA BHATT DAFFODIL I
KOMAL TRAMA TULIP II
HARMAYRA KAUR TULIP III
TANISHI SINGH TULIP III
RIDA TULIP III
SURBHI YADAV MARIGOLD III

Fancy Dress – Class II
Name Section
AVNI NAGESH,
SANSKRITI CHOUDHARY,
PREETI CHHIKARA
BLUEBERRY
JANYA CHAND,
ADVAITA VASHISHTHA,
SIONA VATSAYAN,
BHAVINI GARG
GOOSEBERRY
KANISHKA BHATIA,
DIKSHA ANAND,
DEEVA JAISWAL,
SARGUNH KAUR RISHI
CHERRYBERRY
LEISHA  MALIK,
KANAK SHARMA,
HAZELL,
TUHINA  AGGARWAL
  HUCKLEBERRY
DIYA KAPOOR,
AVISHI CHAUDHARY,
IVANIA KAUR,
MUSKAN MADAAN
  MULBERRY
SHREE BANERJEE,
AADYA JHA,
PRIYANSHI,
 BHAANI JAGGI
 
RASPBERRY
PRACHI SEHRAWAT,
SWEEKRITI,
HUNAR SANGWAN,
LAVANYA SHARMA
STRAWBERRY






०३.०९.१५ : कबीरकुटिया (छठी)

कबीर हिन्दी साहित्य के महिमामण्डित व्यक्तित्व है| इन्हें भक्ति कालीन कवियों की श्रेणी में रखा जाता है| कबीर के दोहे हिन्दी साहित्य में चार चाँद लगाने का कार्य करते है और साथ ही समाज में नैतिकता का भी प्रचार करते है| इस बात को आधार बनाकर हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य पर क्वींस वैली स्कूल की छठी कक्षा की छात्राओं द्वारा " कबीरकुटिया " प्रतियोगिता का आयोजन किया गया|

इस प्रतियोगिता में छात्राओं ने कबीर के दोहों का सस्वरगायन किया | छात्राओं ने हाव-भाव ,आत्मविश्वास, विषयवस्तु , क्रम बद्धता और उच्चारण का ध्यान रखते हुए कबीर के दोहों को प्रस्तुत किया|

छात्राओं ने पूरे उत्साह के साथ इस प्रतियोगिता में भाग लिया और अन्य विद्यार्थियों के लिए यह प्रतियोगिता ज्ञानवर्धक सिद्ध हुई| अंत में निर्णाय कगण द्वारा विषय वस्तु ,हाव-भाव , क्रमबद्धता , आत्मविश्वास और उच्चारण को ध्यान में रखकर परिणाम घोषित किए गए जो इस प्रकार है-

नीतिज्ञा आयुषी छठी अ प्रथम स्थान
नैना सहरावत
प्राजना गोन
छठी स
छठी फ
द्वितीय स्थान
प्रतिष्ठा शुक्ला
आकांक्षा डांगरी
छठी इ
छठी फ
तृतीय स्थान
 


Home
 
  Home | About us | Admission | Our Campus | Feedback | Contact us | Sitemap  
Copyright © Queensvalley.in, 2012, All right reserved Designed & Maintained by Design Mantras